Ek Tukda Dhoop - Raghav Chaitanya Lyrics in Hindi


Ek Tukda Dhoop - Raghav Chaitanya Lyrics in Hindi

Ek Tukda Dhoop - Raghav Chaitanya Lyrics
Singer Raghav Chaitanya
Music Anurag Saikia
Song Writer Shakeel Azmi
टूट के हम दोनों में
जो बचा वो कम सा है..
एक टुकड़ा धूप का
अंदर-अंदर नम सा है..

एक धागे में हैं उलझे यूँ
के बुनते-बुनते खुल गए..
हम थे लिखे दीवार पे
बारिश हुई और धुल गए..

टूट के हम दोनों में
जो बचा वो कम सा है..
एक टुकड़ा धूप का
अंदर-अंदर नम सा है..

सोचो जरा क्या थे हम…हाय ऐ
क्या से क्या हो गए..
हिज़्र वाली रातों की..हाय
कब्रों में सो गए..

हो तुम हमारे जितने थे
सच कहो क्या उतने थे
जाने दो, मत कहो, कितने थे ऐ..

टूट के हम दोनों में
जो बचा वो कम सा है..
एक टुकड़ा धूप का
अंदर-अंदर नम सा है..


Post a Comment

0 Comments