ALLAH VE - Jassie Gill Lyrics in Hindi


ALLAH VE - Jassie Gill Lyrics in Hindi


Singer Jassie Gill
रफ़्तार
मंज मुसिक निन्द्य कौर
सनी ब्राउन, बिग ढिल्लों
जश्न सिंह


कुझ नई मंगदा दर टन तेरे
सब दी झोली खुशियाँ पा दे
न कोई रोवे न कोई तडपे
सब दे घर तू फेरा पा दे


अल्लाह वे मौला वे
अल्लाह वे मौला वे


(कोरस)

अव्वल अल्लाह नूर उपाय
कुदरत के सब बन्दे
एक नूर के सब जग उपजिया
कौन भले कोण मंडे (२)



(रफ़्तार रैप)

जब लिया था जनम
मुझसे पहले पुछा न किसी ने
कौन सा लेगा धरम
किया मैंने वोह जो सीखा मैंने
जीना तरीका मेरा लिखता रहा मेरा करम
मेरे लिए सब एक हैं
लालच हटा दोगे तो बन्दे सारे नेक है
मुझे मुल्क का नाम बताया किताब ने
और बात दबाव ने
यहाँ मेरा भाई वहां भी मेरा भाई
वहां भी मेरी माँ जैसी होगी कोई माई
पतली सी काटो की तारो ने करा है अलग
अब वो भी नहीं जिन्होंने लकीरे थी बने
करू मिन्नत मौला तेरे दर पे
तू उनको संभाल जो खड़े सरहद पे
जो लड़े मिटटी के लिए मिटटी मे मिले
और मिलने चले कुदरत से
लेट्स गो


अल्लाह वे मौला वे
अल्लाह वे मौला वे


(कोरस)

अव्वल अल्लाह नूर उपाय
कुदरत के सब बन्दे
एक नूर के सब जग उपजिया
कौन भले कोण मंडे (२)



कर देने प्यार बथेरे
फिर क्यों दुखान ने घेरे
ला के दिल भूल जांदे ने
रहां विच रुल जांदा ने
कैसी एह बेपरवाही
क्यों नहीं वे तोड़ निबाही
सचे दिलों प्यार जे कर लाये
मौला नु यार जे मनन ली
कुझ नई लभना यार भुला के
इश्क दी कश्ती पार लगा दे
रब ने आखिर मनन जाना ऐ
इक वारि तान यार मन वे
लेट्स गो


अल्लाह वे मौला वे
अल्लाह वे मौला वे


(कोरस)

अव्वल अल्लाह नूर उपाय
कुदरत के सब बन्दे
एक नूर के सब जग उपजिया
कौन भले कोण मंडे (२)



क्या रखा है जुबां में
कुछ रखा नहीं नाम में
कुछ साथ में राम के
कुछ साथ कुरान के
एक जान एक जान की जान लेता जान के
बिना जान पहचान के


अल्लाह वे मौला वे
अल्लाह वे मौला वे
अल्लाह वे मौला वे


(कोरस)

अव्वल अल्लाह नूर उपाय
कुदरत के सब बन्दे
एक नूर के सब जग उपजिया
कौन भले कोण मंडे (२)


Post a Comment

0 Comments